रजनीकांत का जीवन की कहानी | Rajinikanth Biography In Hindi

Rajinikanth Biography In Hindi

Superstar Rajinikanth Biography In Hindi: रजनीकांत का  का जन्म 12 दिसम्बर 1950  को कर्नाटक के बैंगलोर में एक एक बेहद मध्यवर्गीय मराठी परिवार में हुआ था ! वह अपने चारों भाई बहन में सबसे छोटे थे !

उनका जीवन शुरुआत से ही मुश्किलों भरा रहा, मात्र पांच वर्ष की उम्र में ही उन्होंने अपनी माँ को खो दिया था ! पिता पुलिस में एक हवालदार थे और घर की माली स्थति ठीक नहीं थीं ! रजनीकांत ने युवावस्था में कुली के तौर पर अपने काम की शुरुआत की फिर वे बी.टी.सी  में कंडक्टर की नोकरी करने लगे !

Superstar Rajinikanth Biography In Hindi

Rajinikanth: दोस्तों आम लोंगो के लिए उम्मीद का प्रतीक रजनीकांत यह कहना कोई गलत नहीं होगा ! क्योंकि यह रजनीकांत ऐसे इंसान हैं | जिन्होंने फर्श से अर्श तक आने की कहावत को सत्य साबित करके बताया हो | दुनिया में ऐसे कई लोग है जिन्होंने बढ़ी-बढ़ी सफलताएं अर्जित की पर जिस तरह रजनीकांत ने अभावों और संघर्ष में इतिहास रचा हैं !

ऐसा पूरी दुनिया में बहुत काम लोग ही कर पाए होंगे, एक कारपेंटर से कुली बनने, कुली से बी.टी.एस कंडक्टर और फिर एक कंडक्टर से विश्व के सबसे ज्यादा प्रसिद्ध सुपरस्टार बनने तक का सफ़र कितना परिश्रम भरा होगा ये हम सोच सकते है !

Hindi Story of Akbar Birbal with Moral: ये भी जरूर पढ़े : ये 50 best quotes about life in Hindi आपके जीवन को रास्ता दिखायेंगे

रजनीकांत का जीवन ही नहीं बल्कि फिल्मी सफ़र भी कई उतार चढ़ाव से भरा रहा हैं ! जिस मोकम पर आज रजनीकांत है उसके लिए जितना परिश्रम और त्याग चाहिए होता  हैं शायद रजनीकांत ने उससे ज्यादा ही किया हैं !

रजनीकांत की स्टाइल: एक कंडक्टर के रूप में भी उनका अंदाज किसी स्टार से काम नहीं था ! वो अपनी अलग-अलग तरह से टिकट काटने और सिटी मारने की शैली को लेकर यात्रियों और दूसरे बस कन्डक्टरों के बीच विख्यात थे ! कई मंच में नाटक करने के कारण फिल्मों और एक्टिंग के लिए शौक तो हमेशा से ही था और वही शोक धीरे-धीरे जूनून में तब्दील हो गया !

लिहाज़ उन्होंने अपना काम छोड़ दिया कर चेनई  आधार फिल्म इंस्टिट्यूट में दाखिला ले लिया ! वह इंस्टिट्यूट में एक नाटक के दौरान उस समय के महशूर फिल्म निर्देशक के. बालाचंदर की नजर रजनीकांत पर पड़ीं और वो रजनीकांत से इतना प्रभवित हुए कि वहीं उन्होंने फिल्म में एक चरित्र निभाने का प्रश्ताव दे डाला ! फिल्म का नाम था अपूर्व रंगलाल !

 ये भी जरूर पढ़े : Best quotes about life in Hindi

रजनीकांत की यह पहली फिल्म थीं पर किरदार बेहद छोटा होने के कारण उन्हें वो पहचान नहीं मिल पाई, जिसको वे योग्य थे ! लेकिन उनकी एक्टिंग की तारीफ हर उस इंसान ने की जिसकी नज़र उन पर पड़ी !

विलन से हीरो बने : रजनीकांत का फिल्मी सफ़र भी किसी फिल्म से कम नहीं ! उन्होंने परदे पर पहले नकारात्मक चरित्र और विलन के किरदार से शुरुआत की, फिर साइड रोल किये और आखिरकार एक हीरों के तौर पर अपनी पहचान बनाई ! हालांकि रजनीकांत, निर्देशक के बालचंदर को अपना गुरु मानते हैं पर उन्हें पहचान मिली निर्देशक एस.पी मथुरमन की फिल्म चिलकामा चेपीडी से, इसके बाद एस.पी मथुरमन की ही अगली फिल्म अरु केलकुरी में वे पहली बार हीरो हीरो के तौर पर अवतरीत हुए !

इस बाद रजनीकांत ने पिछे मुड़कर नहीं देखा और दर्जनों हिट फिल्मो की लाइन लगा दी बाशा, मुथू  उनकी कुछ बेहतर फिल्मे हैँ !

विलन से हीरो बने : रजनीकांत ने यह साबित कर दिया की उम्र केवल एक संख्या है और अगर व्यक्ति में कुछ करने की ठान ले तो उम्र कोई मायने नहीं रखती ! 65  वर्षो के उम्र के पड़ाव पर वे आज भी वे शिवजी द बॉय, रोबॉट , काबिल जैसी हिट फिल्मे देने का मादा रखते है !

ये भी जरूर पढ़े :Top Two line shayari in hindi

65 वर्षीय रजनीकांत के लोग इतने दीवाने हैं की काबिल फिल्म ने रिलीज़ होने से पहले ही 200 करोड़ रूपये कमा लिए ! एक समय ऐसा था जब एक बेहतर अभिनेता होने के बावजूद उन्हें कई वर्षों तक नजरअंदाज किया जाता रहा पर उन्होंने अपनी हिम्मत नहीं हरी !

ये बात रजनीकांत के आत्मविश्वाश को और विपरीत परिस्थ्तियों में भी हार न मानने वाले जज्बे का परिचय देती हैं !

जमीन से जुड़े हुए : रजनीकांत आज इतने बड़े सुपर सितारें होने के बावजूद जमीन से जुड़े हुए हैं ! वे फिल्मो के बहार असल ज़िन्दगी में एक सामान्य व्यक्ति की तरह ही देखते हैं !

वे दूसरे सफल लोगों से विपरीत असल ज़िंदगी में धोती-कुर्ता पहनते हैं, शायद इसलिए उनके प्रसंशक उन्हें प्यार ही नहीं करते बल्कि उनको पूजते हैं ! रजनीकांत के बारे में यह बात जगजाहिर हैं की उनके पास कोई भी व्यक्ति मदद मांगने आता हैं वे उसे खली हाथ नहीं भेजते !

ये भी पढ़े : बेटियाँ हमारे लिए कितनी जरुरी है

रजनीकांत कितने प्रिय सितारें हैँ  इस बात का पता इसी से लगाया जा सकता है कि दक्षिण में उनके नाम से उनके एक प्रसंशक ने उनके नाम का एक मंदिर बनाया इस तरह का प्यार और सत्कार शायद ही दुनियाँ के किसी सितारें को मिला हो !

चुटकुलों की दुनियाँ में रजनीकांत को ऐसे व्यक्ति के रूप में जाना जाता हैं जिसके लिए नामुमकिन कुछ भी नहीं और रजनीकांत इस बात को हमेशा सच करते नजर आये हैं !

दोस्तों आज ये Rajinikanth Biography In Hindi आपको कैसी लगी हमे कम्मेंट कर बातये और साथ में आज वे 65 वर्ष की उम्र में रोबॉट जैसी फिल्मे बना  हैं !

 

 

Leave a Comment