Slogans of Bhagat Singh in Hindi www.hindijano.com

Slogans of Bhagat Singh in Hindi: दोस्तों आज में आपके साथ शाहिद भगत सिंग के कुछ स्लोगन शेयर करने जा रहा हूँ ! दोस्तों शाहिद भगत सिंग को कौन नहीं जनता की वे अपनी जवानी में फांसी पर हस्ते हुए चढ़ गए थे !

Slogans of Bhagat Singh

निष्ठुर आलोचना और स्वतंत्र विचार, ये दोनों क्रांतिकारी सोच के दो अहम लक्षण  हैं !

क्रांति मानव जाती का एक एक अपरिहार्य अधिकार हैं ! स्वतंत्रता सभी का एक कभी ना ख़त्म होने वाला जान जन्म सिद्ध अधिकार हैं !

Slogans of Bhagat Singh in Hindi

ज़िन्दगी तो सिर्फ़ अपने कंधे पर जी जाती हैं दूसरों के कंधो पर तो सिर्फ जनाजे उठते हैं !

व्यक्तियों को कुचलकर भी आप उनके विचार नहीं मार सकते !

में इस बात पर जोड़ देता हूँ की में महत्वकांशा, उम्मीद और ज़िन्दगी के प्रति आकर्षण से भरा हूँ लेकिन जरुरत पढ़ने पर ये सब त्याग सकता हूँ और वही सच्चा बलिदान हैं !

आमतौर पर लोग जैसी चीजें हैं ! वैसे ही उसके अदि हो जाते हैं ! और बदलाव के विचार से ही कापने लगते हैं ! हमें निष्क्रियता की भवना को क्रांतिकारी भवना में बदलना चाहिए !

भूल करने में पाप हैं ही ! परन्तु उसे छुपाने में उससे भी बड़ा पाप हैं !

अगर बहारों को सुनना हैं तो आवाज को बहुत जोरदार होना होगा ! जब हमने बम गिराया तो हमारा मकसद किसी को मरना था ! हमने अंग्रेजी हुकूमत पर बम गिराया था !

किसी को क्रांति शब्द व्यख्या शाब्दिक अर्थ में नहीं करनी चाहिए ! जो लोग इस शब्द का उपयोग या दुरप्रयोग करते हैं ! उनके फायदे के हिसाब से इसे अलग-अलग अर्थ और मायने दिए जाते हैं !

रख का हर एक कण मेरी गर्मी से गतिमान हैं ! मैं एक ऐसा पागल हूँ जो जेल में आजाद हूँ !

प्रेमी पागल और कवि एक ही चीज़ हैं बने होते हैं ! और देश भक्तों को लोग अक्सर पागल कहते है !

Leave a Comment