ये 3 Short Hindi Stories With Moral Values | Funny Story Hindi Moral

दोस्तों आज में आप लोगों के साथ Short Hindi Stories With Moral Values शेयर करने जा रहा हूँ  | जिसे पढ़ने के बाद आप इसको अपने FACEBOOK  या Google+ में शेयर जरूर करें |

हिंदी कहानियाँ 

Short Hindi Stories With Moral Values

मूर्ख शेर

बहुत समय पहले एक जंगल में शेर सिंह नाम का एक श्री शेर रहता था ! जो उस जंगल का राजा था ! जो बहुत ताकत वर होने साथ-साथ बहुत गुस्से वाला भी था |

कभी-कभी वह बहुत गुस्सा हो जाया करता था और गुस्से में बहुत गलत फैसले भी ले लिया करता था ! जिसका फल जंगल के दूसरे जानवरों को भुगतना पढता था | एक दिन शेर सिंह अपने साथी बालू के साथ सैर कर रहा था !  तभी नदी को देख कर उसने अपने साथी बबलू से पूछा की ये नदी कहाँ जाती हैं |

तब बबलू कहता है की ये नदी हमरे जंगल से निकल कर पूरब की औरकिसी दूसरे जंगल में जाती हैं ! शेर सिंह  पुछा की क्या दूसरे जंगल के लोग भी इस पानी का इस्तमाल करते हैं ! बबलू ने कहा जी माहराज दूसरे जंगल के जानवर इस पानी का इस्तमाल पीने में और नहाने में भी करते हैं ! बस इतनी सी बात सुनकर शेर सिंह आग बबूला हो गया |

शेर सिंह कहता हैं ये नदी हमारी हैं और कोई दूसरा इस नदी का पानी इस्तमाल नहीं कर सकता | शेर सिंह को गुस्सा होते देख बबलू ने समझने की बहुत कोशिश की और बोला माहराज नदी तो सब की होती हैं |

शेर सिंह ने कुछ नहीं सुना और बबलू की बात बीच में काट कर बोला पूरब  जंगल की सीमा की तरफ एक दीवाल बना दी जाए हम उस जंगल में पानी नहीं जाने देंगे |

Must Read : Heart Touching Stories

बबलू कहता है महराज इससे तो बहुत नुकसान हो जायेगा तब शेर सिंह कहता हैं | तुम फायदा और नुकसान के बारे में मत सोचो बस अपना काम करो बबलू जनता था ये गलत हैं पर उसने शेर सिंह के दर से दीवार बना दी और दीवार देख कर शेर सिंह बहुत खुश हुआ पर उसकी मूर्खता की वजह जे जंगलो में पानी बढ़ने लगा और वो पानी अब जानवरों के घरों में गुसने लगा |

इससे परेशान होकर जंगल के जानवर बबलू के पास गए और बोले अगर पानी ऐसे बढ़ता गया तो हम सब मर जायेंगे | तब बबलू बोला आप सब चिंता मत करिये में कुछ करता हूँ |

बबलू ने सोचा महराज बहुत गुस्से वाले हैं ऐसे तो मानेंगे नहीं, तब बबलू एक पास में रहने वाले भालू के पास गया | वो भालू रोज सुबह एक घंटा बजता था जो बहुत बड़ा था | जिसे शेर सिंह और जंगल के दूसरे जानवरों को पता लगता की सुबह हो गयी हैं |

बबलू ने भालू से बोला बालू सुबह हो गई हैं घंटा बजा दो तब बालू कहता है बही तो आधी रात ही हो रही हैं | और अगर ये माहराज को पता लगा तो वो मुझे मार देंगे तब बबलू ने बोला तुम उसकी चिंता मत करो तुम्हें कुछ नहीं होगा |

बालू के ऐसा कहने से भालू मान गया और उसने जोर से घंटा बजा दिया और घंटा बजते ही सभी जानवर उठ गए शेर सिंह भी उठ कर बहार आया तो देखा अभी बहुत अंधेरा हो रहा हैं और सूरज का कहीं आता पाता नहीं था वो गुगुस्से में भालू के पास गया और बोला तुम्हें कुछ दिखाई देना बंद तो नहीं हो गया दिखता नहीं सूरज निकलने में अभी बहुत समय हैं |

Must Read : Real Life Inspirational Stories

ये सुन कर बालू बोला पर माहराज इतने में बबलू बोल पड़ा माहराज इसमें बालू की कोई गलती नहीं हैं उसने अपने समय पर ही घंटा बजया हैं | उसने बोला माहराज जैसे हमने पूरब की और जाने वाला पानी रोका हैं ! वैसे ही उन्होंने वह से आने वाली रौशनी रोक दी हैं | और अब हमे चाँद की रोशनी में ही रहना पढ़ेगा ये सुन कर शेर सिंह बहुत गुस्सा हो गया और बोला उनकी इतनी हिमात कैसे हुई |

बबलू तयार करो सभी को हम पूरब के जानवरों पर हमला करेंगे तब बबलू बोला इतने अंधरे में तयारी कैसे होगी और हम अगर बिना तयारी के हमला करते हैं तो हमारी हार पकी हैँ | तो फिर उसने बबलू से बोला फिर तुम क्या चाहते हो हम इतने अंधेरे  रह सकते है ! तब बबलू बोला महराज एक उपाय हैं अगर हम पूरब की जंगलो की तरफ पानी छोड़ दे तो वो भी प्रकाश छोड़ देंगे |

माहराज ने बोला नहीं हम अपना पानी किसी को नहीं देंगे तब बबलू बड़ी चलाकी से बोला हम पूरब के जानवरों को पानी नहीं देंगे प[पर हम पूरब के जानवरों के साथ व्यपार तो कर ही सकते हैं |

तब शेर सिंह ने बोला पूरब के जंगलो में ये बात फैला दो की हम उन्हें अपना पानी देंगे और वो हमें प्रकाश देंगे जाओ दीवार तुड़वा दो और बबलू ने दिवार तुड़वा दी और तब तक सूरज निकलने का समय हो गाय और सूरज निकल गया और पुरे जंगल में रौशनी हो गयी | और नदी का पानी भी जानवरों के घरों से निकल कर बहार चला गया |

Short Hindi Stories With Moral Values Story Number 2

Hindi Story For Class 1 2 3 4 5 6 7 8 9 With Moral

एक दिन एक लड़की अपने पापा के साथ पार्क में खेल रही होती हैं | तभी उसे एक सेब बेचने वाले का टेहला दिखाई देता हैं तो वह अपने पापा से एक सेब खरीदने के लिए कहती हैं | पर उसके पापा के पास ज़्यदा पैसे नहीं थे पर वो दो सेब खरीद सकते थे तो उसने अपनी बेटी को दो सेब खरीद के दे दिए |

उसकी बेटी ने अपने दोनों हाथों में एक-एक सेब रखा हुआ था तभी उसके पापा ने बोला की क्या वो एक सेब मेरे साथ शेयर कर सकती हैं ! यह सुनकर उसकी बेटी ने सेब में एक मुँह मार दिया और जैसे ही उसके पिता दूसरे वाला मांगते उसने तुरन्त उसमे भी एक मुँह मार दिया |

ये देख कर उसके पिता आश्चर्यचकित हो गए और सोचने लगे की उसकी बेटी बहुत ही लालची हैं | और उसके पिता के मन में बहुत से विचार चलने लगें शयद वो कुछ ज़्यदा सोच रहा था और उसने सोचा की शयद उसकी बेटी अभी ये समझने के लिए बहुत ही छोटी हैं |

पर उसके पिता के चेहरे से एक खुशी गयाब से हो गयी थी ! पर अचानक उसकी बेटी ने एक हाथ आगे कर के बोला पापा आप ये ले लो ये बहुत ही टेस्टी और मीठा हैं | ये सुन कर उसके पापा कुछ बोल नहीं पाए और वह इतनी जल्दी अपना विचार बनाने के लिये शर्मिंदा था | पर उसके पापा के चहरे पे वो खुशी वापिस आ गयी थीं वह अब जान चूका था की उसकी बेटी ने ऐसा क्यों क्या था |

Moral of The Story:-Heart Touching Stories

दोस्तों इस कहानी से हमें ये शिक्षा मिलती हैं | कभी भी किसी को बहुत जल्दी जज नहीं करना चाहिए और किसी को समझने के लिए थोड़ा समय जरूर दे |

दोस्तों आपको ये छोटी से Short Hindi Stories With Moral Values कहानी कैसी लगी हमें कम्मेंट में जरूर बातए | और अगर आपको ये Short Hindi Stories With Moral Values कहनी पसंद आई तो इसे शेयर करना ना भूले |

दोस्तों अगर आप के पास ऐसा कोई आर्टिकल जो की Short Hindi Stories With Moral Values जैसी कहानियाँ की तरह हो और आप उसे हमारी वेबसाइट में पब्लिश करवाना चाहते हैं तो आप हमसे सम्पर्क कर सकते हैं |

हमारी और कहानियाँ भी पढ़े :

तीन पेड़ की कहानी 

Leave a Comment