बच्च्चों की हिंदी कविताएँ – Nursery Poem in Hindi Meri Maa Baccho ki Poems

Nursery Poem in Hindi Meri Maa Baccho ki Poems

Nursery Poem in Hindi Meri Maa Baccho ki Poems: दोस्तों आज काल के दौर में बच्चे पढ़कर कम और वीडियो देखकर ज्यादा सीखते हैं, पर ये भी सच हैं की हमारे बच्चे सब कुछ वीडियो देखकर नहीं सीख सकते हैं ये बात हमें अपने बच्चों को बतानी चाइए जिसे की उनकी हैंड राइटिंग तो अच्छी हो ही हो बल्कि साथ में वो कुछ किताबी बातें भी सीखें, तो आज में आप लोगों के साथ Nursery Poem in Hindi शेयर करने जा रहा हूँ |

Nursery Poem in Hindi Meri Maa Baccho ki Poems

माँ 

माँ तू कितनी अच्छी हैं | मेरा सब काम तू करती हैं | 

भूख मुझे जब लगती हैं | खाना मुझे खिलाती हैं | 

जब में गंधा होता हूँ | तब तू मुझे नहलाती हैं | 

जब में रोने लगता हूँ तब चुप तू मुझे कराती हैं | 

माँ मेरे दोस्तों में सबसे पहले तू ही आती हैं | 

गिनती 

एक दो तीन चार, आज शनि है कल है इतवार | 

पाँच, छे , सात , आठ याद करूँगा सारा पाठ | 

इसके आगे नो और दस इसके आगे गिनती हो गयी बस | 

 

चिड़ियाँ 

एक-एक तिनका जोड़ कर चिड़ियाँ अपना घर बनती हैं | 

धुप हवा पानी में अपना घर बचती हैं | 

मेहनत से ना घबराना हम सबको ये सिखलाती हैं | 

छोटे-छोटे हाथों से वो बड़े काम कर जाती  हैं | 

पेड़ चलते होते

अगर पेड़ भी चलते होते कितने मज़े हमारे होते |

बांध तने में रस्सी चाहे जहाँ कहीं ले जाते |

जहाँ कहीं धुप दिखती उसके नीचे आराम फरमाते |

जहाँ कहीं वर्षा होती उनके नीचे चुप जाते |

लगती जब भी भूख अचानक तोड़ कर उसके फल खाते |

अति बाढ़ या कीचड़ कही पर तो उसके ऊपर चढ़ जाते |

अगर पेड़ भी चलते तो कितने मजे हमारे आते |

Indian Nursery Rhymes Hindi

आलू कचालू बीटा कहाँ गये थे | 

बैगन की टोकरी में सो रहे थे | 

बैगन ने लात मरी रो रहे थे | 

मम्मी ने प्यार किया हंस रहे थे | 

पापा ने टॉफी दी हंस रहे थे | 

Nursery Rhymes in hindi free download

सड़क बनी हैं लम्बी चौड़ी उस पर जाती मोटर गाड़ी | 

सब बच्चे पटरी पे जाओ | बीच सड़क पर कभी मत आओ | 

आओगे तब दब जाओगे | चोट लगेंगी तब पछताओगे | 

 

तो आपको Nursery Poem in Hindi Meri Maa Baccho ki Poems पढ़ने के बाद बच्चो को पोयम के माध्यम से हम बहुत कुछ सीखाया जा सकता है |

Leave a Comment