करुणानिधि की जीवनी – Karunanidhi biography family in hindi

करुणानिधि जीवनी : Karunanidhi biography family in hindi (Ex Chief Minister of Tamil Nadu): करुणा निधि तमिलनाडू में लगातार पॉँच बार मुख्यमंत्री चुने गये (1969-2011 ) और ये तमिलनाडु फिल्म इंडस्ट्रीज लिए भी काम करते थे उनके कुछ प्रमुख लेख हैं : Ponnar sankar , Parasakti Etc.

Karunanidhi biography family in hindi
Source:https://www.filmibeat.com

जीवन 

करूणानिधि पहले मांसाहारी थे, लेकिन बाद में उन्होंने मांस सेवन बंद कर दिया था | वो कहते हैं की उनकी सफलता का राज उनके द्वारा किया दैनिक जीवन का कार्य ही है | उन्होंने तीन बार शादी की उनके चार पुत्र और दो पुत्रियाँ थीं

करुणा निधि  के बारे में कुछ जानकारियाँ :

नाम (Name)                                      M. Karunanidhi

कार्य (Profession)                            Ex Chief Minister of Tamil Nadu

पार्टी                                                   Dravida Munnetra Kazhagam (DMK )

जन्म तिथि                                         24 June 1924

Death                                              7 August 2018

आयु  (Age 2018 )                          94 वर्ष

जन्म स्थन  (Birth Place)                 Thirukkuvalai In India

नागरिकता (Nationality)                भरतीय (Indian)

होमटाउन (Home Town )              Tamil Nadu

पारिवारिक जानकारी डीटेल्स में :  

पिता (Father)                              मुथुवेलू  (Muthuvelu)
माता (Mother)                            अंजुगम
पत्नी (Spouse)                             Rajathi Ammal, Dayalu Ammal

बहनें (Siblings)                           Shanmugasundarathammal, Periyanayagam

बच्चे (Children)                          M. K. Stalin, M. K. Tamilarasu, M. K. Selvi, M. K. Kanimozhi

करूणानिधि का जन्म नागपट्टिनम जिले के थिरुक्कुवालाई गाँव में हुआ था और इनके पिता मुथुवेल्लू ईसाई समुदाय से तलूक रखते थे | और करूणानिधि ने अपना शुरुआती करियर एक लेखक के रूप में किया था इन्होंने बहुत से कथा, पुष्तक, और फिल्में लिखी हैं | पर अपनी बुद्धि के बल पर वो एक राजनेता भी बन गए | उन्होंने अपनी लेखन कला के जरिये एक पराशक्ति नमक फिल्म लिखी जिसके जरिये उन्होंने अपनी राजनितिक विचारों का प्रसार किया |

राजनितिक जीवन

एक बार वहा अलगिरिस्वामी का भाषण सुन रहे थे वहाँ से प्रेरित होकर उन्होंने लगभग 14 से 15 साल की उम्र में राजनितिक में प्रवेश किया और उसके बाद उन्होंने मनावर नेसन नामक अखबार चलया | करुणा निधि ने पहली बार 1957 में चुनाव लड़ा था | अन्नादुरई की मौत के बाद 1969 में उन्हें मुख्यमंत्री बना दिया गया था |

मुख़्यमंत्री के रूप में कार्य

1969  से 1971           चुनाव 1967

1971   से 1976           चुनाव 1971

1989   से 1991            चुनाव 1989

1996   से 2001           चुनाव 1996

2006  से वर्तमान          चुनाव 2011

करुणानिधि द्वारा लिखी किताबे

करुणानिधि द्वारा लिखी गयी कुछ प्रमुख किताबे :वेल्लीकिलमई, नेंजुकू नीदि, इनियावई इरुपद,रोमपुरी पांडियन, तेनपांडि सिंगम, संग तमिल, कुरालोवियम, पोन्नर शंकर और इन्होने 80 से ज़्यदा किताबें लिखीं |

अवार्ड और अचीवमेंट

1971 में अन्नामलई विश्वविद्यालय के द्वारा उन्हें डॉक्टर की उपाधि से सम्मानित किया गया था |

अन्नामलई विश्वविद्यालय द्वारा उन्हें थेनपंदी सिंगम नमक किताब के लिए  उन्हें राजा राजन पुरुस्कार के लिए सम्मानित किया गया था |

करुणानिधि से जुड़े कुछ विवाद

करुणानिधि पे वीरानम परियोजना के लिए सरकरिया कमीशन द्वारा निविदाएं आवंटित करने के लिए आरोप लगे थे | और 2001 में करूणानिधि और के. ए. नाम्बिआर के साथ और लोगों पर फ्लाईओवर बनाने के भष्टाचार के आरोप में गिरफ्तार कर लिया गया था | और एक बार उनकी पार्टी पर कई गंभीर आरोप लगे और उनके बेटे पर एक भी आरोप साबित नहीं हो पायें |

करूणानिधि एक सफल राजनेता और एक सफल लेखक थे उन्होंने गरीबों के लिए बहुत कुछ किया तभी उनकी मौत पे 20 लोंगो की जान चली गयी उन्होंने गरीबो को एक रूपये किलो चवाल और बेटियों को प्रॉपर्टी पर बराबरी का अधिकार दिलाया था | इनके लाखों की संख्या में चाहने वाले हैं, और ये दिखने में बहुत ही साधारण थे |

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *