जहाँ प्यार होता है वह पैसे का हिसाब नहीं होता | Radha sowami sakhi

जहाँ प्यार होता है वह पैसे का हिसाब नहीं होता | Radha sowami sakhi

Radha sowami sakhi

एक गुजरी दूध बेच रही थी| और सब को दूध नाप के दे रही थी | उसी समय एक नोजावान दूध लेने आया तो गुजरी ने बिना नापे ही उस नोजवान को बर्तन भर के दूध दे दिया|

वही कुछ दूर पर एक फकीर हाथ में माला ले कर मन ही मन माला  फेर रहा था | तभी उस की नजर गुजरी पर परी उसने पास ही बैठे आदमी से सारी बाते बता दी की  गुजरी ने नोजवान को बिना नपे ही दूध दे दिया है | फिर उसने  उसी आदमी से  पूछा की गुजरी ने  बिना नपे ही नोजवान को दूध कियूँ दे दिया?

तब उस आदमी ने उस की बात गंभीरता से सुन कर उस आदमी ने बतया की जिस नोजावान को गुजरी ने बिना नपे  दूध दिया असल में वह उस नोजावान से बेहद प्यार करती है|

उस आदमी ने एक बात कही इसी लिए कहा जाता है | जहाँ प्यार होता है वह पर हिसाब नहीं होता ये बात फकीर के दिल को छु गयी|

और उसने सोचा की एक गुजरी जिस से प्यार करती है | वो उसका हिसाब किताब नहीं रखती है, और में जो अपने परमात्मा से प्यार करता हूं उसके लिए में सुबह से शाम तक गिन गिन कर माला फेरता हूं मुझसे अच्छी तो ये गुजरी है |

और फिर उसने माला तोर कर फेक दि और बोला जहा प्यार होता है वहा पैसे का हिसाब किताब नही होता | और कहा जहाँ कही हिसाब किताब होता है वह प्यार नहीं  होता | सिर्फ व्यापार होता है|

Conclusion-निष्कर्ष: Radha sowami 

तो दोस्तों आप को इस छोटी सी कहानी से बहुत आछी शिक्षा मिल गयी होगी | हम लोग कहते है ना की ढाई घंटे भजन करना चाहिये, तो में तो यही कहना चाहुँगा की बांधने की भी जरुरत नहीं है|

जब आप का मन करता है, जितना आप का मन करता है, उतना आप प्यार और श्रदा से भगवान की आराधना करनी चाहिये| अगर आप अपनी आप को बन्धा वह मासुस करते है, की कही हम ऐसा नहीं करेंगे तो हमे काल तो नहीं ले जायेगा या फिर मरते वक़्त परेशानी तो नहीं होगी?

तो हमे किसी के डर से भजन नहीं करना है, अगर आप भी ऐसा करते है तो में तो यही कहूँगा की आप ना ही करे, कियूँ की डर से प्यार तो नहीं हो सकता अगर आप सच में अपने परात्मा से प्यार करते है तो आप को ये GHANTE गिनने की जरुरत नहीं है |

अगर आप ज्यादा करते है, तो भी कोई बात नहीं है|  अगर आप कम भी करते है तो कोई बात नहीं है, जैसे की आप दो घंटे भजन करते है|

जहाँ प्यार होता है वह पैसे का हिसाब नहीं होता Radha sowami sakhi in hindi
                                               www.hindijano.com

उसमे से एक घंटे आप का मन इधर उधर ही लगा रहा, और उसमे से दस पंद्रह मिनट आप का मन लग भी गया तो उस से तो अच्छा है की, आप 10 मिनट ही करे और उसे 15 मिनट में भगवन का नाम पूरी SHRADHA से ले, और उस समय आप केवल परात्मा को ही याद करे ये बेहतर होगा|

Radha sowami sakhi : तो दोस्तों नीचे कमेन्ट कर बतये की आप को स्टोरी केसी लगी और ऐसे ही Motivational Story और परने ले लिए हमारी वेब साईट Subscribe जरुर kare.

कुछ और अध्यात्मिक कहानी भी पढ़े-

भोले भाले लोगो को  भगवान जल्दी मिल जाते है

कुछ परिवर्तन जीवन के जो दर्द देते है

गुरु के लिए तड़प कैसी होनी चाहिए

जहाँ प्यार होता है वह पैसे का हिसाब नहीं होता

Leave a Comment