अपनी आत्मा को भार मुक्त कैसे करे|| How to free your soul

अपनी आत्मा को भार मुक्त कैसे करे|| How to free your soul

अपनी आत्मा को भार मुक्त कैसे करे|| How to free your soul

बाबा सावंत जी कहा करते थे| सुई, आत्मा, और चुम्बक जब एक सुई के सामने एक बड़ा सा चुम्बक रख दिया जाये तो कैसे वो सुई उस चुम्बक की तरफ खिची चली आती है |

कियूँ की चुम्बक को उसे खिचने का गुण है | और सुई को उसकी तरफ आकर्षित होने की काशिश है, लेकिन उस सुई पर एक एक, कर कर (one by one) बहुत सारे पत्थर का भार या वाजन रख दिया जाए तो चुम्बक तब भी उसे आपनी तरफ खीचने की उतनी ही कोशिश करता है|

लेकिन वो सुई चाहा कर भी उस चुम्बक की तरफ नहीं  जा सकती कियुं की सुई के ऊपर जरुरत से ज्यादा भार रख दिया गया है | अगर उस सुई से एक एक कर कर पथर का भार काम करते जाये तो सुई फिर धिरे धिरे आगे उस चुम्बक की तरफ खीचाकने लगती है, और जब सुई से सारा भार हटा दिया जाता है, तो सुई बढ़ी तेज गति से अपनी काशिश की तरफ जाकर चिपक जाती है |




वैसे ही उस धुन,  उस सबध में वो चुम्बकीये गुण है, जो आत्मा को अपनी तरफ खीचता है, और उस आत्मा में भी उस सबध धुन की और आकर्षित होने की काशिश है |

लेकिन आत्मा पे कर्म रूपी पथरो का भार दिन पर दिन इतना बढ़ता जाता है | की वहा चाहा कर भी उस सबध धुन को सुन नहीं पते और उस की तरफ आगे बढ़ नहीं पते और हम आत्मा के ऊपर लधे हुए भार को एक एक कर कर कम करते जाएंगे तो हम देखेंगे की आत्मा अपने काशिश से सबध धुन की तरफ बढ़ना सुरु कर देती है|

अपनी आत्मा को भार मुक्त कैसे करे
WWW.HINDIJANO.COM

और जब आत्मा पर से कर्म रूपी पत्थर का भार पूरी तरहा उतर जायेगा, तब आत्मा तेजी से उस सबध धुन की और बढ़ कर उसके साथ जुर जाएगी|

जो हमारी आत्मा पे देखो करम जिस तरह के हम करते है | वैसा ही हमारे मन में, गिल्ट भी होता है भार भी लगता है, और अगर हम अच्छे करम करेंगे तो, वो दिल को बहुत हलके होंगे, हमे बिलकुल फील नहीं होगा |

आप को हमेश ख़ुशी ही मिलेगी जब भी आप उन चीजों को याद करोगे, और अगर अपने गलत किया अपनी जिंदगी में, या अपने कुछ गलत फैसले लिए है जिंदगी में, या किसी के साथ कुछ गलत किया है, तो वो कर्म बहुत भरी हो जाते है | तो उन कर्मो को आप कभी भी भुल नहीं पाओगे और उन को याद कर आप दुखी ही होगे| तो इस वजह से आप के कर्म अच्छे है, या शुभ है, तो वो आप को एक अच्छे रश्ते पे लेके जायेंगे | तो हमेशा अच्छे कर्म करिए अच्छा फील करिए आप की जिंदगी बहुत कुशनुमा हो जयेगी |

कुछ और अधत्मिक कहानी भी पढ़े-

जहां पैसे का हिसाब नहीं होताप्यार होता है वह 

भोले बाले लोगो को भगवान जल्दी मिल जाते है

ये कहानी सुन कर हमारा सर सरम से झुक जायेगा

प्रेम कैसा होना चहिये

Leave a Comment