एक छोटे से लड़के ने परमात्मा को कैसे पाया | How did a little boy find God?

एक छोटे से लड़के ने परमात्मा को कैसे पाया | How did a little boy find God?

एक छोटे से लड़के ने परमात्मा को कैसे पाया | How did a little boy find God?

दोस्तों इस कहानी में में बताने जा रहा हु की कैसे परमात्मा को एक लड़के ने पाया और जब उसे पुछा गया की तुमने परमात्मा को कैसे पाया तब उसने किया जवाब दिया जानने के लिए कहानी पढ़े?

httpswww.hindijano.comhow-did-a-little-boy-find-god
www.hindijano.com

एक समय की बात है एक छोटा सा बच्चा एक सतगुरु की सेवा में आया करता था, और वह पर बड़े बड़े संत आया करते थे और वो बच्चा उन्हें भी ध्यान से बैठ कर सुना करता था | पर जैसे वह छोटा बच्चा सतगुरु के पास आता था वह चटाई में बेठ कर सतगुरु को ध्यान से सुनता रहता था ,  गुरु को वो बाते जो गुरु दुसरो को बताते थे

एक दिन वो गुरु के पास आया और सर नीचे कर गुरु से कहने लगा की मुझे भी ध्यान की विधि सिखाए तब गुरु से उस छोटे बच्चे को माना नहीं किया गया और गुरु ने बच्चे को कहा की तू एक हाथ की ताली को सुने की कोशिश कर तब बच्चे ने गुरु को नमस्कार किया और जो गुरु ने कहा वैसे ही करने लगा |

ये भी पढ़े : बेटियाँ हमारे लिए कितनी जरुरी है

लड़का ने गुरु की बात को मानते हुए एक हाथ की ताली की सुनने की कोशिश की पर उस समय शाम का समय था कौए वापस लोटे थे दिन भर की यात्रा और थकान से काऊ काऊ कर रहे थे तब लड़के ने सोचा हो ना हो यही वो एक हाथ की आवाज है वो लड़का दुसरे दिन गुरु के पास गया |

वहा जाकर गुरु से बोला पा लिया गुरु ने पूछा किया तब लड़के ने कहा कौए की आवाज गुरु ने कहा नहीं और खोजो लड़का गया और रात के समय सुने की कोशिश की तो उसने देखा जिंगुर बोल रहे थे |

ये भी पढ़े : दो भाई की सच्ची कहनी

लड़का फिर सुबह होते ही गुरु के पास जा कर बोला मिल गया गुरु ने पूछा  किया लड़के ने कहा जिंगुर की आवाज गुरु ने कहा नहीं तुम और खोजों तुम करीब आ रहे हो और खोजों फिर वाह लड़का कुछ दिन तक तो लोटा ही नहीं फिर उसे एक दिन पता चला प्राचीन आश्रम के वृक्ष से निकलती हुई हवा एक जरा सी सरसराहत के पकड़ में ना अये हो ना हो  यही हैं |

लड़का दुबारा वहा आया और गुरु से कहने लगा की वृक्ष से निकलती हुई हावा तब गुरु ने कहा नहीं करीब करीब तुम आ गए हो थोड़ा और खोजो फिर महीनो वो लड़का नहीं आया गुरु परेशान हुए की किया हुआ वो उस की तलाश में गए |

ये भी पढ़े : दो भाई की सच्ची कहनी

तब गुरु ने किया देखा वह बच्चा एक वृक्ष के नीचे ध्यान मंगन बैठा था और उसके चेहरे पर साफ था की उसने आवाज सुन की हैं, उस बच्चे को देख कर हर कोई कह सकता था और बता सकता था की उसका सारा तनाव जा चूका था और वह ज्ञ्यान को प्राप्त कर चूका था |

तब गुरु ने उस लड़के को उठाया और पूछा किया हुआ उस आवाज का तब लड़के ने कहा जब सुन ही ली तो बताना मुश्किल हो गया | अब में सोच रहा हूं बहुत दिन से की कैसे बताऊ तब गुरु ने कहा इसकी जरुरत ही नहीं है और वहा लड़का सब समज गया |

ये अध्यात्मिक कहानी भी पढ़े :

कुछ परिवर्तन जीवन के जो दर्द देते है

प्रेम कैसा होना चहिये

बिना हाथों वाले आदमी की दर्दनाक कहानी

एक बूढी महिला की प्रार्थना |

Leave a Comment