Hindi Poems On Life {zindagi} {struggle} {inspiration} for class ukg 1,2,3,4,5,6,7,8,9

Hindi Poems On Life {zindagi} {struggle} {inspiration} for class ukg 1,2,3,4,5,6,7,8,9

Hindi Poems On Life {zindagi} {struggle} {inspiration} for class ukg 1,2,3,4,5,6,7,8,9: दोस्तों इस आर्टिकल में आपके साथ ज़िन्दगी से जुड़ी कुछ कविताओं का संग्रह आपके साथ शेयर करने जा रहा हूँ | मुझे उम्मीद हैं की आपको ये कविता पढ़ने के बाद जरूर कुछ अलग फील होगा क्यो की इसमें इंस्प्रेशन कविता भी है | ये एक मोटिवटीनल ब्लॉग है, तो में उम्मीद करता हु की आप मेरी और पोस्ट भी पढ़े धन्यवाद |

Hindi Poems On Life {zindagi} {struggle} {inspiration} for class ukg 1,2,3,4,5,6,7,8,9

कोशिश करने वालो की कभी हार नहीं होतीं

लहरों से डर कर नौका पार नहीं होती ! कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती |

नन्हीं चींटी जब दाना लेकर चलतीं हैं ! चढ़ती दिवार पर सौ बार फिसलती हैं |

मन का विश्वास रगों में सहस भड़ता हैं ! चढ़कर गिरना, गिरकर चढ़ना न अखरता हैं |

आखीर उसकी मेहनत बेकार नहीं होती | कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती |

डुबकियां सिंदु में ग़ोताखोर लगता हैं ! जा जाकर खली हाथ लौट आता हैं |

मिलता नहीं सहज ही मोती गहरे पानी में | बढ़ता दुगना उत्तसा इसी हैरानी में |

मुठी उसकी खली हर बार नहीं होती | कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती |

असफलता एक चुनौती है इसे स्वीकार कारों ! क्या कमी रह गयी देखों और सुधर कारों |

जब तक ना सफल हो नींद चैन को त्याग दो तुम ! संघर्ष का मैदान छोड़ कर मत भगो तुम |

कुछ किये बिना जय-जय कर नहीं होती | कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती |

हरिवंशराय बच्चन 

मंजिल मिले ना मिले

मंजिल मिले ना मिले ये तो मुक़दर की बात हैं |

हम कोशिश भी ना करें ये तो गलत बात हैं |

जिंदगी जख्मों से भरी हैं |

वक़्त को महरम बनाना सीख लो |

हारना तो एक दिन मौत से हैं |

फ़िलहाल दोस्त के साथ जीना सीख लो |

हरिवंशराय बच्चन 

चिड़ियाँ

कौन सिखाता है,  चिड़ियों को चीं-चीं , चीं-चीं  करना |

कौन सिखाता है,  उनको फुदक-फुदक कर चलना फिरना |

कौन सिखाता है,  फुर्र से उड़ना और दाने चुग-चुग खाना |

कौन सिखाता है,  तिनका ला-ला कर घोंसले बनाना |

कौन सिखाता है,  उनके बच्चों का लालन पालन करना |

माँ का प्यार दुलार और चौकसी करना कौन सीखता हैं |

कुदरत का यह खेल ! वही हम सबको ! सब कुछ देती |

किन्तु बदले में हमसे कुछ नहीं लेती |

हम सब उसके अंश कि जैसे तरु-पशु-पक्षी सारे |

हम सब उसके वंशज जैसे सूरज चाँद-सितारें |

द्वारिका प्रसाद महेशृरी 

दोस्तों आपको ये Hindi Poems On Life {zindagi} {struggle} {inspiration} for class ukg 1,2,3,4,5,6,7,8,9 कैसी लगी कमेंट कर के बातये | 

Leave a Comment