गुरु के लिए तड़प कैसी होनी चाहिए | Radha sowami sakhi

गुरु के लिए तड़प कैसी होनी चाहिए | Radha sowami sakhi

गुरु के लिए तड़प कैसी होनी चाहिए | Radha sowami sakhi

एक फकीर का ज़िकर है वो घोड़े में बैठ कर कही जा रहे थे | और उसका एक शिष्य जंगल में उनकी याद में बैठा था, मतलब की तड़प रहा था उनसे मिलने के लिए और फकीर घोड़े को जिधर लेकर जाये वो उधर ना जा कर कही और जाये, वो इधर लेकर जाये तो घोड़ा उधर चले जाये|

जब घोड़ा अपनी ज़िद पर बना रहा तब जाकर महत्मा बोले चल सही है | जहा तेरी मर्जी है वही ले चल और वह घोड़ा महत्मा को लेकर सीधा जंगल की और चल दिया | और तीन चार किलोमीटर चल कर रुक गया, और वहा पर उनका वो शिष्य बैठआ हुआ था| वह फकीर को देख कर उठ खरा हुआ, और फकीर ने कहा ये सब किया है ?

तब शिष्य ने कहा की आज मेरा दिल आप के दर्शन के लिए तेजी से धड़क रहा है| तो शिष्य के प्यार में इतनी कशिश होनी चहिये की उनका दिल भर गया|



तो दोस्तों इस से हमे यहाँ शिक्षा मिलती है की जो शिष्य होता है, उसमे इतनी तड़प होनी चहिये की आप के गुरु को मज्बूर होना पढ़ जाये , ताकि गुरु को आना ही पढ़े, आप से मिलने के लिए आप के दर्शन के लिए  बस SARATH ये है की चाहत सच्ची होनी चाइये |

उसमे किसी परकर का फायदा नहीं होना चाइये, या कहे सेल्फ लेस हो |  मतलब बिना स्वार्थ की भवाना है| और उसमे कोई मिलावट सामिल नहीं है| आप उन्हें किसी अपने मनसूबे के लिए याद नहीं कर रहे है|  और उनको वाकई में अन्दर से पुकार रहे है|

आप वाकई में ही उनके दर्शन करना चाहते है, तभी आप में वो जो दर्शन की KIRPA जो है, वो होगी, और अगर आप सोचते है की आप ने कोई बात मनवानी है| आप ने बाबा जी से या किसी गुरु से अपना काम निकलवाना है| तो आप फिर भूल जाइये, फिर वह दया आप को प्राप्त नहीं होगी| तो ऐसी तड़प होनी चहिये शिष्य में और ये तड़प हाशिल करने के लिए आप को भजन सिमरन करना पढ़ेगा, अगर आप को अपने अन्धर ये तड़प चहिये तो, मतलब आप अपनी आप भजन सिमरन करेंगे उतना करिए जितना आपसे हो सकता है | और तब करे जब आप के पास समय हो, तब जा कर आप उनके प्रिय बन सकते है| तभी बाबा जी आप से पर्शन होंगे |

गुरु के लिए तड़प कैसी होनी चाहिए
Radha sowami sakhi

और अध्यात्मिक कहानी पढ़े :-

प्रेम कैसा होना चहिये 

दो भाई की सच्ची कहनी

बाबा जी कैसे हमरी रक्षा करते है?

बिना हाथों वाले आदमी की दर्दनाक कहानी

 

Leave a Comment