मेरी माँ Heart Touching Stories in Hindi, हिंदी कहानियाँ

मेरी माँ Heart Touching Stories in Hindi, हिंदी कहानियाँ

मेरी माँ Heart Touching Stories in Hindi, हिंदी कहानियाँ

Heart Touching Stories in Hindi : पति , पत्नी और माँ की कहानी एक परिवार में पत्नी बार बार माँ पर इल्जाम लगाए जा रही थी और पति बार बार उसको अपनी हद में रहने के लिए कह रहा था | 

http://www.hindijano.com/wp-content/uploads/2018/06/httpswww.hindijano.com_.jpg

लेकिन पत्नी चुप होने का नाम ही नहीं ले रही थी वो जोर-जोर से चीख चीखकर कह रही थी की उसने अंगूठी टेबल पर ही राखी थी और तुम्हारे और मेरे आलावा इस कमरे में कोई नहीं आया था |

अंगूठी हो न हो माँ जी ने ही उठाई है | बात जब पति की बर्दाश्त के बहार हो गई तो उसने पत्नी के गाल पर जोरदार तमाचा दे मरा अभी तीन महीने पहले ही शादी हुई थी |

पत्नी से तमाचा सहन नहीं हुआ वह घर छोड़कर जाने लगी और जाते जाते पति से एक सवाल पूछा की तुमको अपनी माँ पर इतना विस्वास क्यों है ?

और ये भी पढ़े :अवसर किसी के लिए नहीं रुकता हैं

तब पति ने जो कहा वो जवाब दिया उस जवाब को सुनकर दरवाजे के पीछे खड़ी माँ ने सुना तो उसका मन भर आया, पति ने पत्नी को बताया की जब वह छोटा था तब उसके पिताजी गुजर गए माँ मोहल्ले के घरों में झाड़ू पोंछा लगाकर जो कामा पति थी उससे एक वक़्त का खाना आता था माँ एक ताली में मुझे पड़ोस देती थी और खाली डिब्बे को ढकाकर रख देती थी और कहती थी |

मेरी रोटियाँ इस डिब्बे में है, बेटा खा ले, मै भी हमेशा आधी रोटी खाकर कह देता था की माँ मेरा पेट भर गया है मुझे और नहीं खाना है | माँ ने मुझे मेरी झूठी आधी रोटी खाकर मुझे पला और बड़ा किया है | आज में दो रोटी कमाने लायक हो गया हूँ , लेकिन यह कैसे भूल सकता हूँ की माँ ने उम्र के उस पड़ाव पर अपनी ईच्छाऔ को मारा है | वो माँ आज इस उम्र के पड़ाव पर किसी अंगूठी की क्यों होगी |

यह में सोच भी नहीं सकता तुम तो तीन महीने से मेरे साथ हो मैंने तो माँ की तपस्या को पिछले 25 वर्षो से देखा है | यह सु माँ की आँखे छलक उठे वह समज नहीं पा रही थी कि बेटा उसकी आधी रोटी का कर्ज चूका रहा हैं या वह बेटे की आधी रोटी का कर्ज।

दोस्तों अगर ये पोस्ट मेरी माँ Heart Touching Stories in Hindi, हिंदी कहानियाँ पसंद आयी तो हमे नीचे कम्मनेट में बातये |

ये भी पढ़े :

दुनिया का सबसे सुखी पँछी कौन है ?

 

Leave a Comment